बहुत परेशान हैं? थोड़ा सा इंतजार कीजिए..7 दिसंबर को RBI से मिल सकता है शानदार तोहफा..

0
198 views

देश में कई लोग बहुत पहेशान हैं, जेब में पैसा नहीं है, आगे क्या होगा इसको लेकर कई आशंकाएं हैं। सरकार, एनालिस्ट औऱ पत्रकार बता रहे हैं कि नोट बदलने के कार्यक्रम से क्या क्या फायदे होने वाले हैं। लेकिन एक फायदा जो आपको बहुत जल्दी मिल सकता है वो होगा आपकी ईएमआई में कटौती का।




9 फीसदी तक हो सकता है होम लोन का ब्याज!

रिजर्व बैंक 7 दिसंबर को अपनी कर्ज नीति की समीक्षा करेगा। तब तक बैंकों का खजाना पैसों से लबाबलब होगा। देश के वित्त मंत्री के डीमोनेटाइजेशन के पहले सवा दो दिन में ही करीब 2 लाख करोड़ रुपए बैंकों में जमा हो चुके थे। पैसा लोगों की जेब से निकलकर बैंकों में पहुंच रहा है। यानी खरीददारी करने के लिए पैसा कम हो रहा है। जब लोगों के हाथ में पैसा कम होता है तो महंगाई भी कम होती है क्योंकि बाजार में मांग कम हो जाती है। बाजार में मांग कम होने का अर्थव्यवस्था में नुकसान तो होता है लेकिन आम लोगों को एक फायदा भी होता है। ऐसे हालात में पैसा फिर से बाजार में पहुंचाने के लिए अक्सर रिजर्व बैंक कर्ज पर ब्याज को कम करता है। उम्मीद है कि 7 दिसंबर को भी ऐसा ही होगा। रिजर्व बैंक चौथाई फीसदी ब्याज कम कर सकता है औऱ अगर बैंकों ने इसे लागू किया तो आपके लोन पर ब्याज 0.25% तक कम हो सकता है। इस वक्त कई बैंक 9.30% तक में लोन दे रहे हैं। यानी अगर 0.25% तक ब्याज कम हुआ तो कई साल में पहली बार ब्याज 9% के लेवल पर पहुंच सकता है।

sbi-loan-1




अगले डेढ़ साल में 7% होगी ब्याज दर?

मोदी सरकार चाहती है कि 2019 के चुनाव तक ब्याज दर 7% तक पहुंच जाए। 2006-07 में बैंक इसी दर पर होम लोन का ब्याज़ ले रहे थे। अगर सबकुछ ठीक रहा, इकॉनमी को कोई बड़ा झटका नहीं लगा तो ये रास्ता तय करना मुमकिन है। नोटबंदी के तहत करीब 17 लाख करोड़ की कीमत के नोट बदले जाने हैं। बैंकों के खातों में करीब 5 लाख करोड़ आना तय है। इतनी बड़ी तादाद में एक मुश्त पैसा आने से बैंकों पर दबाव कम होगा। जानकार मानते हैं कि अगर ट्रेंड यही रहा तो अगले 18 महीने में ब्याज दरों में डेढ़ फीसदी तक की कमी आ सकती है।

फिक्स्ड डिपोजिट में फायदा कम होगा?

पिछले दो साल में फिक्स्ड डिपोजिट समेत तमाम सेविंग योजनाओं पर ब्याज दर कम हुई है। आने वाले दिनों में ये और कम हो सकती है। इनवेस्टमेंट के एक्स्पर्ट्स का मानना है कि ऐसे में लम्बे वक्त के लिए किए जाने वाले निवेश फायदेमंद होंगे।




The short URL of the present article is: http://sachjano.com/MSkmt