नोटबंदी के बाद लोगों को मिल सकती है किराए के घर से हमेशा के लिए आजादी

0
380 views

8 नवंबर यानी नोटबंदी के बाद रियल एस्टेट में बहुत खलबली है। बिल्डरों के फोन लोगों के पास सस्ते ऑफर के साथ लगातार आ रहे हैं। लेकिन, ये भी संभव है कि बिल्डर आपको जो ऑफर अभी दे रहा हो, उससे 20 से 30% कम कीमत पर फ्लैट या मकान आपको नए साल में मिल जाए और ईएमआई भी कम चुकानी पड़े।

नया घर खरीदने में मिल सकती है सरकारी मदद

modi-noteअगले बजट में सबको घर देने के ठोस प्लान पर मोदी सरकार काम कर रही है। सूत्रों के मुताबिक, सरकार आम लोगों के अपना घर का सपना पूरा करने के लिए सस्ते होम लोन के साथ आर्थिक मदद की नई योजना ला सकती है।

50 लाख रुपये से कम का घर खरीदने वालों के लिए 6 से 7%  होन लोन की स्कीम शुरू की जा सकती है। हालांकि, इस योजना का फायदा सिर्फ उन लोगों को मिलेगा जो पहली बार घर खरीद रहे होंगे।

गरीब यानी बीपीएल वालों को छत देने के लिए भी सरकार ग्रामीण और शहरी इलाकों के लिए अलग-अलग स्कीम ला सकती है। सूत्रों के मुताबिक, सरकार गरीबों को 2 से 5 लाख रुपये तक की आर्थिक मदद घर बनाने में दे सकती है।



सस्ता होगा होम लोन !

marriageप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले ही साफ कर चुके हैं कि नोटबंदी के बाद जिस तरह से कैश बैंकों में जमा हो रहा है, उससे ब्याज दरें सस्ती होंगी। फिलहाल, ज्यादातर बैंक होम लोन 9 से 10% की ब्याज दर पर दे रहे हैं।

बैंकिंग सेक्टर से जुड़े लोगों का मानना है कि आने वाले दिनों में बैंक होम लोन की ब्याज दर करीब 2% तक कम कर सकते हैं। मतलब, घर खरीदने वालों पर ईएमआई का बोझ कम होगा। अगर आज की तारीख में आप 30 लाख रुपये होम लोन 9.50 % ब्याज दर से 20 साल के लिए लेते हैं, तो आपकी ईएमआई बनती है करीब 28 हजार रुपये। वहीं, अगर आपको होम लोन 8% की रेट से मिलता है तो आपकी ईएमआई बनेगी करीब 25 हजार रुपये। मतलब, सीधे 3 हजार रुपये का फायदा।



30% तक सस्ते हो सकते हैं मकान और फ्लैट?

propertyप्रॉपर्टी बाजार पर नजर रखने वालों का मानना है कि नोटबंदी के बाद से फ्लैट और मकान की कीमतें गिरनी तय हैं। सरकार ने बेनामी प्रॉपर्टी की भी जांच शुरू कर दी है, जिससे शहरों में काली कमाई से बेनामी संपत्ति खड़ा करने वालों के होश उड़े हुए हैं।

रियल एस्टेट से जुड़े लोगों का मानना है कि अगले कुछ महीनों में देश भर से 30-35 शहरों में मकान और प्रॉपर्टी की कीमतों में 30% तक की गिरावट आ सकती है।

एक अनुमान के मुताबिक 2008 के बाद डेवलपर्स द्वारा बनाई गई हाउसिंग प्रॉपर्टी की कुल कीमत 8 लाख करोड़ रुपये है। जिसकी कीमत लगातार घट रही है। नोटबंदी के बाद से प्रॉपर्टी की कीमतें और तेजी से घटने के चांस ज्यादा है।

जानकारों के मुताबिक, प्रॉपर्टी की कीमतों में सबसे ज्यादा गिरावट मुंबई, बेंगलुरू, गुड़गांव और दिल्ली से सटे यूपी के नोएडा एक्सटेंशन, ग्रेटर नोएडा में होने की उम्मीद हैं।






The short URL of the present article is: http://sachjano.com/18Xb6