अब बीजेपी लाल किला में करेगी स्वाहा…स्वाहा!

0
290 views

लाल किला की दीवारों ने हिंदुस्तान के कई रंग देखे…मुगलों का शासन देखा, अंग्रेजों की हनक देखी, आजादी के बाद हिंदुस्तान को बदलते देखा। लेकिन, कभी अपने प्रांगण में स्वाहा-स्वाहा होते नहीं देखा। अब बीजेपी लाल किला प्रांगण में राष्ट्र रक्षा महायज्ञ कराने की तैयारी कर रही है। सूत्रों के मुताबिक, महायज्ञ 8 मार्च से 15 मार्च तक होगा।

बीजेपी का लाल किला प्लान’!

लाल किला की पहचान हर हिंदुस्तानी के लिए पिछले 370 साल से पावर सेंटर के तौर पर रही है। अब बीजेपी हिंदुस्तान के इसी पावर सेंटर में राष्ट्र रक्षा यज्ञ कर अपने मुद्दों को दोबारा धार देने की तैयारी में है। सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हरी झंडी के बाद राष्ट्र रक्षा यज्ञ की तैयारियां शुरू हो जाएंगी।

राष्ट्र रक्षा यज्ञ या 2019 का शंखनाद!

माना जा रहा है कि लाल किला प्रागण में होनेवाला राष्ट्र रक्षा यज्ञ बीजेपी के मिशन 2014 का शंखनाद होगा। दरअसल, गुजरात विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद बीजेपी की समझ में आ गया है कि सिर्फ विकास के नाम पर 2019 में तूफानी जीत नहीं मिलने वाली। हिंदुत्व के मुद्दे पर भी बीजेपी को कांग्रेस से कड़ी चुनौती मिल रही है। ऐसे में बीजेपी यज्ञ के जरिए हिंदुत्व और राष्ट्रवाद के नाम पर सुनामी खड़ी करने के प्लान पर आगे बढ़ रही है।

यज्ञ से सबको जोड़ने का प्लान!

सूत्रों के मुताबिक, यज्ञ के हवन कुंड में पहली अहुति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से डलवाने की तैयारी है। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी यज्ञ में सभी दिन मौजूद रह सकते हैं। बीजेपी के मुख्यमंत्री, मंत्री, सांसद, विधायक समेत छोटे-बड़े नेताओं के बड़े जुटान की तैयारी है। बीजेपी आलाकमान चाहता है कि इस कार्यक्रम के जरिए बीजेपी का हर स्टार प्रचार साधु-संतों से आशीर्वाद ले कर मैदान में उतरे।

बीजेपी के यज्ञ में क्या-क्या होगा?

सूत्रों के मुताबिक, लाल किला प्रांगण में 108 हवन कुंड बनाने की योजना है। कहा जा रहा है कि यज्ञशाला इस तरह से डिजाइन की जाएगी, जिससे करीब 20 हजार लोग आराम से बैठ सकें। कहा ये भी जा रहा है कि यज्ञ में बगलामुखी का अह्वान किया जाएगा। मान्यता है कि मां बगलामुखी का मुकाबला दुनिया की सभी ताकतें मिलकर भी नहीं कर सकती हैं। मतलब, 2019 के महाभारत से पहले दैवीय शक्तियों के आह्वान के जरिए बीजेपी अजेय का आशीर्वाद भी चाहती है।

 

 

 

 

The short URL of the present article is: http://sachjano.com/vkNEH