अमिताभ के ’जादू’ से स्वच्छ होने वाला है भारत !

0
474 views

दो साल पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की थी। देश के कई जाने माने लोगों को इस अभियान से जोड़ा गया। लेकिन वो असर नहीं दिखा जिसकी उम्मीद थी। उम्मीद थी कि गांवों के हर घर में टॉयलेट होगा और लोग उसका इस्तेमाल करेंगे। लेकिन एक ताजा सर्वे के मुताबिक इन दो साल में 29 प्रतिशत टॉयलेट सिर्फ कागजों पर बने और 36 प्रतिशत टॉयलेट्स का कोई इस्तेमाल ही नहीं कर रहा है। सफाई को लेकर इस सुस्त रवैये से निजात पाने के लिए प्रधानमंत्री की टीम ने 14 साल पुराने फॉर्मूले को अपनाया है। इस फॉर्मूले को समझने से पहले ये वीडियो देखिए-

इस वीडियो के बारे में प्रधानमंत्री ने ये लिखा-

modi-tweet14 साल पहले अमिताभ बच्चन को ऐसा ही एक चुनौतीपूर्ण काम दिया गया था। तब देश में पोलियो के 1,556 केस मिले थे। 10 साल से चल रहे पल्स पोलियो अभियान के बावजूद 2002 में आया ये आंकड़ा डराने वाला था। असल में सबसे बड़ी समस्या ये थी कि पोलियो के कैम्प्स में माताएं और  बच्चे पहुंच ही नहीं रहे थे। ऐसे में एड गुरू पीयूष पांडे ने अमिताभ को लेकर एक एड फिल्म बनाई।  इसमें अमिताभ से कहा गया कि वो वैसी ही ऊंची आवाज़ में बोलें जैसा फिल्मों में गुस्से वाले सीन देते वक्त बोलते हैं। औऱ फिर कुछ ऐसी विज्ञापन फिल्म बनी-

इस फिल्म का इतना बड़ा असर हुआ कि जिन कैम्प्स में एक दो माताएं बच्चों को लेकर आती थीं वहां 100 से 150 तक बच्चे आने लगे। स्वच्छता अभियान चला रहे लोग अमिताभ के नए विज्ञापन से काफी उत्साह में है। सबको यकीन है कि जिस तरह पोलियो कैम्प्स में बच्चे पहुंचे औऱ भारत से पोलियो का सफाया हुआ उसी तरह से अमिताभ के कमेंट्स सुनकर खुले में शौंच करने वाले टॉयलेट्स का रुख करेंगे।

The short URL of the present article is: http://sachjano.com/yYbVu