आपके बटुए तक कैश पहुंचाने के लिए लगातार उड़ान भर रहे हैं वायुसेना के विमान

1
626 views

इस महीने की सैलरी अब कभी भी आपके खाते में ट्रांसफर हो सकती है। लेकिन, बैंक और ATM नोटबंदी के बाद से लगातार कैश की कमी से जूझ रहे हैं। दिसंबर के पहले हफ्ते में लोगों की कैश की कमी को दूर करने के लिए इंडियन एयरफोर्स के विमानों ने मोर्चा संभाल रखा है। सी17 ग्लोबमास्टर, सी 130 जे सुपर हर्क्यूलिस और एएऩ32 जैसे ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट लगातार नोटों की ढुलाई कर रहे हैं।

कितनी नोटों की ढुलाई कर चुकी है एयरफोर्स?

marriageदेश भर में नई करंसी पहुंचाने का काम वायुसेना के खास विमान 19 नवंबर से कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, एयरफोर्स के विमान अब तक अलग-अलग शहरों में 160 टन से अधिक नई करंसी की ढुलाई कर चुके हैं। एयरफोर्स के ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट नासिक, मैसूर, इंदौर और पश्चिम बंगाल के सालबोनी प्रिंटिंग प्रेस से करंसी पहुंचाने का काम कर रहे हैं।



कैश क्राइसिस को देखते हुए सरकार ने वायुसेना के विमानों को प्रिटिंग प्रेस से देश के अलग-अलग हिस्सों में नए नोट पहुंचाने के काम पर लगाया, जिससे कम से कम समय में नोट बैंक और ATM मशीनों तक पहुंचाए जा सकें।

इस हफ्ते नई कंरसी के साथ ज्यादा टेकऑफ करेंगे विमान

दिसंबर के पहले हफ्ते में कैश के लिए कोहराम मचने वाला है। क्योंकि, हिंदुस्तान में ज्यादातर लोग अपनी सैलरी का आधा हिस्सा कैश में निकाल लेते हैं। ऐसे में सरकार ने पहले से ही देश की प्रिटिंग प्रेसों को तेजी से नोटों की छपाई के काम पर लगा दिया है।

नए नोट देश के अलग-अलग शहरों में जल्द से जल्द पहुंचाने की जिम्मेदारी वायुसेना सी17 ग्लोबमास्टर, सी130 जे सुपर हर्क्यूलिस और एएऩ32 जैसे ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट ने उठा रखी है। इस हफ्ते एयरफोर्स के विमानों के नए नोटों के साथ ज्यादा टेकऑफ करने की उम्मीद है। क्योंकि, दिसबंर के पहले हफ्ते में देश के बैंकों और ATM को ज्यादा से ज्यादा नोटों की जरुरत होगी।

एयरफोर्स पहले भी नॉर्थ-ईस्ट में करंसी पहुंचाने का काम कर चुकी है। लेकिन, इतने बड़े पैमाने पर देश भर नोट पहुंचाने का काम एयरफोर्स पहली बार कर रही है।



कितनी करंसी ढो सकते हैं वायुसेना के विमान?

अगर नई करंसी छप कर तैयार हो तो वायुसेना का सी17 ग्लोबमास्टर एक बार में 70 से 80 टन करंसी देश के किसी हिस्से में पहुंचा सकता है। इतना बड़ा ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट सिर्फ 3500 फीट लंबी हवाई पट्टी पर उतर सकता है। मतलब, देश के किसी भी हिस्से की छोटी हवाई पट्टी पर उतरकर ग्लोबमास्टर नोटों का सूखा दूर कर सकता है।

सी130 जे सुपर हर्क्यूलिस बार में 20 टन से अधिक करंसी लेकर टेकऑफ सकता है। सबसे बड़ी बात इतने बड़े विमान को भी उतरने के लिए ज्यादा लंबी हवाई पट्टी की जरुरत नहीं है।

एएन32 ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट भी एक बार में 6 टन से ज्यादा करंसी देश के किसी भी हिस्से में पहुंचाने की कुव्वत रखता है। मतलब, अगर नोट छप कर तैयार हों तो वायुसेना के तीनों स्पेशल विमान एक बार में 100 टन से ज्यादा नोट देश के किसी भी हिस्से में पहुंचा सकते हैं।








 

 

 

 

 

The short URL of the present article is: http://sachjano.com/vEhQW